शिक्षक बने हैवान, स्कूल के टॉयलेट में नाबालिग छात्रा को बनाया हवस का शिकार; ऐसे हुआ खुलासा

Manoj KumaR

सरकारी आवासीय विद्यालय के हेडमास्टर ने एक अन्य शिक्षक के साथ जबरन शौचालय में प्रवेश किया और कक्षा 6 की छात्रा के साथ उस समय दुष्कर्म किया जब वह शौचालय के अंदर थी। सरकारी वकील सच्चिदानंद स्वाईं ने बताया कि दोनों आरोपियों को विशेष न्यायाधीश प्रणति साहा के समक्ष पेश किया गया।ओडिशा मानवाधिकार आयोग ने नबरंगपुर के मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी से इस विषय पर रिपोर्ट मांगी है।

HIGHLIGHTS

  1. शौचालय में दो शिक्षकों द्वारा 11 वर्षीय आदिवासी छात्रा के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया
  2. हेडमास्टर ने एक अन्य शिक्षक के साथ जबरन शौचालय में प्रवेश किया

ओडिके नबरंगपुर जिले में गुरु शिष्य परंपरा को शर्मशार करते हुए एक सरकारी स्कूल के शौचालय में दो शिक्षकों द्वारा 11 वर्षीय आदिवासी छात्रा के साथ कथित तौर पर दुष्कर्म किया गया, जिससे राज्यव्यापी आक्रोश फैल गया और विपक्षी दल पीड़िता के लिए न्याय की मांग कर रहे हैं।

पुलिस ने शुक्रवार को इस घटना की जानकारी दी। रिपोर्ट के अनुसार सरकारी आवासीय विद्यालय के हेडमास्टर ने एक अन्य शिक्षक के साथ जबरन शौचालय में प्रवेश किया और कक्षा 6 की छात्रा के साथ उस समय दुष्कर्म किया जब वह शौचालय के अंदर थी। अधिकारियों ने कहा कि दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में नबरंगपुर की पोस्को अदालत में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।

सरकारी वकील सच्चिदानंद स्वाईं ने बताया कि दोनों आरोपियों को विशेष न्यायाधीश प्रणति साहा के समक्ष पेश किया गया, जिन्होंने उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इस बीच, इस मुद्दे को गंभीरता से लेते हुए, ओडिशा मानवाधिकार आयोग ने नबरंगपुर के मुख्य जिला चिकित्सा अधिकारी से इस विषय पर रिपोर्ट मांगी है।

9 नवंबर को लड़की को पेट में दर्द महसूस हुआ

ओडिशा मानवाधिकार आयोग ने सीडीएमओ-सह-सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारी को चार सप्ताह के भीतर एक रिपोर्ट सौंपने का भी निर्देश देने के साथ सीडीएमओ को अस्पताल में बच्ची का समुचित इलाज सुनिश्चित करने को कहा है। मंगलवार को हुई यह घटना 9 नवंबर को तब सामने आई जब लड़की को पेट में दर्द महसूस हुआ और उसने अपने माता-पिता को आपबीती सुनाई। पुलिस ने कहा कि जब उसे अस्पताल ले जाया गया, तो वहां डॉक्टरों ने कहा कि उसके साथ यौन उत्पीड़न किया गया होगा।

यह भी पढ़ें- नबरंगपुर के एसपी रोहित वर्मा ने कहा कि उसके माता-पिता द्वारा कुंडेई पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराने के बाद, उसके स्कूल के प्रधानाध्यापक और एक अन्य शिक्षक को सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में गिरफ्तार करने से पहले पूछताछ करने के साथ चिकित्सकीय जांच की गई। पुलिस ने कहा कि दोनों शिक्षकों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम पोस्को की कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

बीजद सरकार पर किया कड़ा प्रहार

पुलिस ने बताया कि पीड़िता को नबरंगपुर के जिला मुख्यालय अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसका इलाज चल रहा है। इस बीच, विपक्षी भाजपा और कांग्रेस ने सत्तारूढ़ बीजद सरकार पर कड़ा प्रहार किया और महिलाओं, विशेषकर नाबालिग लड़कियों के खिलाफ अपराधों में वृद्धि के लिए उसे जिम्मेदार ठहराया है।

Share This Article
Leave a comment